जो इन्सानों पर गुज़रती है ज़िन्दगी के इन्तिख़ाबों में / पढ़ पाने की कोशिश जो नहीं लिक्खा चँद किताबों में / दर्ज़ हुआ करें अल्फ़ाज़ इन पन्नों पर खौफ़नाक सही / इन शातिर फ़रेब के रवायतों का  बोलबाला सही / आओ, चले चलो जहाँ तक रोशनी मालूम होती है ! चलो, चले चलो जहाँ तक..

पोस्ट सदस्यता हेतु अपना ई-पता भेजें


NO COPYRIGHT यह पृष्ठ एवं इस ब्लाग पर प्रकाशित सम्पूर्ण सामग्री कापीराइट / सर्वाधिकार से सर्वथा मुक्त है ! NO COPYRIGHT टेम्पलेट एवं अन्य सुरक्षा कारणों से c+v नकल-चिप्पी सुविधा को अक्षम रखा गया है ! सर्वाधिकार मुक्त पृष्ठ सुधीपाठक पूर्ण आलेख अथवा उसके अंश को जानकारी के प्रसार हेतु किसी भी प्रकार से उपयोग करने को स्वतंत्र हैं ! यह पृष्ठ एवं इस ब्लाग पर प्रकाशित सम्पूर्ण सामग्री कापीराइट / सर्वाधिकार से सर्वथा मुक्त है ! NO COPYRIGHT टेम्पलेट एवं अन्य सुरक्षा कारणों से c+v नकल-चिप्पी सुविधा को अक्षम रखा गया है ! सर्वाधिकार मुक्त पृष्ठ सुधीपाठक पूर्ण आलेख अथवा उसके अंश को जानकारी के प्रसार हेतु किसी भी प्रकार से उपयोग करने को स्वतंत्र हैं ! यह पृष्ठ एवं इस ब्लाग पर प्रकाशित सम्पूर्ण सामग्री कापीराइट / सर्वाधिकार से सर्वथा मुक्त है ! NO COPYRIGHT टेम्पलेट एवं अन्य सुरक्षा कारणों से c+v नकल-चिप्पी सुविधा को अक्षम रखा गया है ! सर्वाधिकार मुक्त पृष्ठसुधीपाठक पूर्ण आलेख अथवा उसके अंश को जानकारी के प्रसार हेतु किसी भी प्रकार से उपयोग करने को स्वतंत्र हैं ! यह पृष्ठ एवं इस ब्लाग पर प्रकाशित सम्पूर्ण सामग्री कापीराइट / सर्वाधिकार से सर्वथा मुक्त है !NO COPYRIGHT टेम्पलेट एवं अन्य सुरक्षा कारणों से c+v नकल-चिप्पी सुविधा को अक्षम रखा गया है ! सर्वाधिकार मुक्त पृष्ठ सुधीपाठक पूर्ण आलेख अथवा उसके अंश को जानकारी के प्रसार हेतु किसी भी प्रकार से उपयोग करने को स्वतंत्र हैं ! यह पृष्ठ एवं इस ब्लाग पर प्रकाशित सम्पूर्ण सामग्री कापीराइट / सर्वाधिकार से सर्वथा मुक्त है ! NO COPYRIGHT टेम्पलेट एवं अन्य सुरक्षा कारणों से c+v नकल-चिप्पी सुविधा को अक्षम रखा गया है ! सर्वाधिकार मुक्त पृष्ठ सुधीपाठक पूर्ण आलेख अथवा उसके अंश को जानकारी के प्रसार हेतु किसी भी प्रकार से उपयोग करने को स्वतंत्र हैं ! यह पृष्ठ एवं इस ब्लाग पर प्रकाशित सम्पूर्ण सामग्री कापीराइट / सर्वाधिकार से सर्वथा मुक्त है ! NO COPYRIGHT टेम्पलेट एवं अन्य सुरक्षा कारणों से c+v नकल-चिप्पी सुविधा को अक्षम रखा गया है ! सर्वाधिकार मुक्त पृष्ठ सुधीपाठक पूर्ण आलेख अथवा उसके अंश को जानकारी के प्रसार हेतु किसी भी प्रकार से उपयोग करने को स्वतंत्र हैं !सर्वाधिकार मुक्त वेबपृष्ठ

NO COPYRIGHT यह पृष्ठ एवं इस ब्लाग पर प्रकाशित सम्पूर्ण सामग्री कापीराइट / सर्वाधिकार से सर्वथा मुक्त है ! NO COPYRIGHT टेम्पलेट एवं अन्य सुरक्षा कारणों से c+v नकल-चिप्पी सुविधा को अक्षम रखा गया है ! सर्वाधिकार मुक्त पृष्ठ सुधीपाठक पूर्ण आलेख अथवा उसके अंश को जानकारी के प्रसार हेतु किसी भी प्रकार से उपयोग करने को स्वतंत्र हैं ! यह पृष्ठ एवं इस ब्लाग पर प्रकाशित सम्पूर्ण सामग्री कापीराइट / सर्वाधिकार से सर्वथा मुक्त है ! NO COPYRIGHT टेम्पलेट एवं अन्य सुरक्षा कारणों से c+v नकल-चिप्पी सुविधा को अक्षम रखा गया है ! सर्वाधिकार मुक्त पृष्ठ सुधीपाठक पूर्ण आलेख अथवा उसके अंश को जानकारी के प्रसार हेतु किसी भी प्रकार से उपयोग करने को स्वतंत्र हैं ! यह पृष्ठ एवं इस ब्लाग पर प्रकाशित सम्पूर्ण सामग्री कापीराइट / सर्वाधिकार से सर्वथा मुक्त है ! NO COPYRIGHT टेम्पलेट एवं अन्य सुरक्षा कारणों से c+v नकल-चिप्पी सुविधा को अक्षम रखा गया है ! सर्वाधिकार मुक्त पृष्ठसुधीपाठक पूर्ण आलेख अथवा उसके अंश को जानकारी के प्रसार हेतु किसी भी प्रकार से उपयोग करने को स्वतंत्र हैं ! यह पृष्ठ एवं इस ब्लाग पर प्रकाशित सम्पूर्ण सामग्री कापीराइट / सर्वाधिकार से सर्वथा मुक्त है !NO COPYRIGHT टेम्पलेट एवं अन्य सुरक्षा कारणों से c+v नकल-चिप्पी सुविधा को अक्षम रखा गया है ! सर्वाधिकार मुक्त पृष्ठ सुधीपाठक पूर्ण आलेख अथवा उसके अंश को जानकारी के प्रसार हेतु किसी भी प्रकार से उपयोग करने को स्वतंत्र हैं ! यह पृष्ठ एवं इस ब्लाग पर प्रकाशित सम्पूर्ण सामग्री कापीराइट / सर्वाधिकार से सर्वथा मुक्त है ! NO COPYRIGHT टेम्पलेट एवं अन्य सुरक्षा कारणों से c+v नकल-चिप्पी सुविधा को अक्षम रखा गया है ! सर्वाधिकार मुक्त पृष्ठ सुधीपाठक पूर्ण आलेख अथवा उसके अंश को जानकारी के प्रसार हेतु किसी भी प्रकार से उपयोग करने को स्वतंत्र हैं ! यह पृष्ठ एवं इस ब्लाग पर प्रकाशित सम्पूर्ण सामग्री कापीराइट / सर्वाधिकार से सर्वथा मुक्त है ! NO COPYRIGHT टेम्पलेट एवं अन्य सुरक्षा कारणों से c+v नकल-चिप्पी सुविधा को अक्षम रखा गया है ! सर्वाधिकार मुक्त पृष्ठ सुधीपाठक पूर्ण आलेख अथवा उसके अंश को जानकारी के प्रसार हेतु किसी भी प्रकार से उपयोग करने को स्वतंत्र हैं !सर्वाधिकार मुक्त वेबपृष्ठ

14 May 2008

आओ सखि जरा निन्दिया लें

Technorati icon

दूर कहीं किसीके रेडियो से गाने की आवाज़ सन्नाटे से संघर्ष करके आती प्रतीत हो रही है । नहीं जी, मैं बहरा नहीं हूँ,गाने का प्रतीत होना एक अलग तरह का एहसास है । गाना गाया जारहा है, यह निर्विवादित होता है, धुन भी चिरपरिचित लग रही है, किंतु स्पष्टता के अभाव में, आप गाने के बोल नहीं पकड़ पा रहें हैं, तो इसे क्या कहेंगे ? मन को अशांत कर देने वाली छटपटाहट ! साइडरूम से कुछ खाना खा कर लौटा, तो अनमने ढंग से टी०वी० खोल कर बैठ गया, जरा देखा जाये कि बाहर की दुनिया में क्या चल रहा है ? वैसे टी०वी० में मेरी आस्था न के बराबर रह गयी है, पर कोई और चारा भी नहीं है । ब्लगियाऊँगा तो शायद रात ही न बीत जाये । छोड़ो, सुबह लौटना भी है, अपनी  प्रैक्टिस के  दिहाड़ी  पर !

कल रात से हम तोता-मैना यहाँ प्रवास कर रहे हैं , रायबरेली से तीस किलोमीटर पर  डलमऊ स्थित नहर विभाग के अतिथिगृह  में । गंगा के ठीक किनारे एक ऊँचे टीले पर टिका यह गेस्टहाउस बड़ी शांति देता है, किंतु यह गाना मुझे क्यों अशांत कर रहा है ? दरअसल इसकी धुन व लयबद्धता से यह तो पक्का है कि लता जी का स्वर है, किंतु मुझे उनका कोई ऎसा गाना याद नहीं आता, " Note हम हिंदूस्तान में रहने वालों को..ओऽ ..ऽ, चैन कहाँऽ हाये ए एऽ आराम कहाँ, हम.. हिंन्दस्ताँ में रहने वालों को ओ ओ ओऽ Crying ^"

मैं शर्त लगा सकता हूँ कि ऎसा कोई गाना ही नहीं है, लेकिन इसके धुन से मेरे दिमाग में तो यही बज रहा है, क्या करें ? मेरी बालीवुड एनसाइक्लोपेडिया पंडिताइन मेरी मदद अवश्य करती किंतु वह तो खाना खाकर लौटते ही ध्यानस्थ हो गयी । इस समय वह निद्रायोग में परमब्रह्म से एकाकार होती सी लग रहीं हैं, चलो यह वरदान तो बिरलों को ही नसीब है । मैं  यहाँ  आ गया था कि एक दिन में लगकर अपने सभी ब्लाग्स को रिस्ट्रक्चर कर लूँगा, पंडिताइन का एक शनिवार चुरा लिया था, वह भी उनको लौटा दूँगा । आज सोनिया गाँधी रायबरेली आ रहीं हैं, सो शहर में बड़ी अफ़रा तफ़री रहेगी । यहाँ तो अर्ज़ुन सिंहों की भरमार है, एक ढूँढो तो दस हज़ार मिलेंगे । हर उम्र जाति वर्ण और ओहदे के अर्ज़ुन सिंह, हर गली गली में देखो । वैसे भी फ़िज़िक्स के नियम के अनुसार सोनियाजी के आने पर मैं निष्क्रिय होकर अवक्षेपित हो जाता हूँ, एक किनारे को !

हाँ, याद आया कि दिमाग में 'चैन कहाँ-आराम कहाँ Sad ' क्यों हो रहा है । टी०वी० पर बाहरी दुनिया का हाल देखने की नौबत ही नहीं आयी । यहाँ तो अपने ही घर में धूम-धड़ाम चल रहा है, जयपुर में धमाकों को लेकर । चैनलों की सक्रियता एवं धाक के मुताबिक इनकी गिनती 6 से 8 के दरम्यान डोलती फिर रही थी । एक ज़नाब तो रस्सी पकड़े पकड़े इतनी देर से साँप साँप चिल्ला रहे थे कि साला टीवीए बंद कर देना पड़ा । एकठो निष्क्रिय किया हुआ बम पा गये थे । उसी को उधेड़ उधेड़ पूरे देश को दिखा रहे थे , 65 उजड़े परिवारों की बाइट से आह्लादित एवं बिछोह की वेदना से बिलखती महिला को कैमरेCamera में कैद कर लेने की सफलता से परम उत्साहित । ऎसा अवसर दुबारा नहीं आयेगा, न तो उनके लिये और न उस बेचारी महिला के लिये । कुछ बरबादियाँ अपने को कभी रिपीट नहीं करतीं, न ही मौत दुबारा दस्तक देने आती है । दे आर जस्ट वन टाइम डील !

                            जाने वाले लौट के आ-अमर ्जैअपुर जयपुर-अमर जैयपुर धमाके-अमर

हटाओ यार, अपना मन ख़राब मत करो । यह असहमति की स्थिति मेरे आसपास ही निरंतर क्यों मँडराया करती है ? यह क्या वस्तुस्थिति का अस्वीकार नहीं कहलायगा ? संभालो अपने को, यही सब अपने मन को समझाता मैं गंगा पर बनते पुल को नीम अँधेरे में अनमना निहारता रहा। लौटा कि टीवी बंद न करूँ तो आवाज़ ही कम कर दूँ ,वरना पंडिताइन अपने खर्राटा तप में विघ्न पड़ने से जग गयीं तो इस निशाचर की ख़ैर नहीं

लेटा लेटा चलते हुये कैप्शन देखता हुआ निन्दियाने का प्रयास कर रहा था कि ज़बरन मेरे दिमाग के साथ एक हादसा होगया । सामने स्क्रीन पर स्क्राल कर रहा है, " राष्ट्रपति ने धमाकों की निन्दा की...प्रधानमंत्री ने घटना की निन्दा की... सोनिया ने भी निन्दा की... वामपक्ष ने निन्दा की... विपक्ष ने निन्दा की... इसने निन्दा की.. उसने निन्दा की.. सबने निन्दा की.. बिन्दा ने निन्दा की.. स्वयं निन्दा ने निन्दा की !" हद है भाई !

अब इतनी निन्दा भी ठीक नहीं कि बेचारे हूज़ी फ़ूज़ी के लड़के शर्म से पानी पानी हो जायें । चलिये मान लेते हैं कि बाहर से आये हैं, देन दे मस्ट बी ट्रीटेट लाइक ' देवो भवः '। भर्त्सना करते तो भी गनीमत, उनको छोड़ अपनी ही आधी जनसंख्या इसके मानी न समझ पाती । और यहाँ हर छोटा बड़ा निन्दा पर उतारू ! अब इतनी निन्दा अच्छी बात नहीं है, ' ज़ंग तो नहीं छेड़ाऽ..आऽऽ, दस्तक ही तो दी हैऽऽ ..ऽ, हंगामा है क्यूँ बरपाऽ.. आऽऽ  ऽ , बम ही तो फोड़ी है ' इन्हीं उल्टे पुल्टे विचारों के साथ निन्दिया से बोझिल होती आँखों से यह पोस्ट लिख रहा हूँ कि बाहर के सन्नाटे को भंग करती आवाज़ें आने लगीं.., ' हुँआ हों हों हुँआ हुँआ..हुँआहुँआहुँआ हुँआ हुँआ होंहुँआ ' फिर सहस्त्रों हुँआ हुँआ से रात थर्राने लगी । बहुत दिनों के बाद असली सियार या फिर गीदड़ की आवाज़ सुनी है । शायद वह भी निन्दा कर रहे हैं, या मुझे ललकार रहे हैं, ललकारेंगे क्या भला ? इनकी तो गीदड़भभकी ही सुहाती है । रात के सन्नाटे में या समझो इस समय पूरे देश  में पसरे सन्नाटे में यह इनका समवेत क्रंदन है ।  कहीं मुझे तो नहीं न्योत रहे हैं कि भाई बिरादर तुमने तो निन्दा की ही नहीं सो ' आओ सखे जरा निन्दिया लें ' । उन उजड़े सुहागों और घायलों के तीमारदारों को छोड़ सभी सो चुके हैं । मैं भी जा रहा हूँ लंबी तानने, तुम धिक्कारते रहो या निन्दियाते रहो, नो वन केयर्स यू ब्लडी इंडियन गीदड़्स !        आप सब को भी नाचीज़ की शुभ    जैसी तैसी रात्रि !

2 टिप्पणी:

अनूप शुक्ल का कहना है

अब उठ भी जाओ जी।

Udan Tashtari का कहना है

इन संवेदनशील विषयों पर इतनी सहजता-वाकई, इनकी आवृति देख लगता है, यही सही है या ऐसा ही होगा. चलो, अनूप जी की बात मानो, जागो और देखो!!! ऐसे वक्त सोना ठीक नहीं. कुछ तो करना होगा. हमेशा से सो ही तो रहे हैं हम सब!

जाग जाओ.

लगे हाथ टिप्पणी भी मिल जाती, तो...

आपकी टिप्पणी ?

जरा साथ तो दीजिये । हम सब के लिये ही तो लिखा गया..
मैं एक क़तरा ही सही, मेरा वज़ूद तो है ।
हुआ करे ग़र, समुंदर मेरी तलाश में है ॥

Comment in any Indian Language even in English..
इन पोस्ट को चाक करती धारदार नुक़्तों का भी ख़ैरम कदम !!

Please avoid Roman Hindi, it hurts !
मातृभाषा की वाज़िब पोशाक देवनागरी है

Note: only a member of this blog may post a comment.

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

यह अपना हिन्दी ब्लागजगत, जहाँ थोड़ा बहुत आपसी विवाद चलता ही है, बुद्धिजीवियों का वैचारिक मतभेद !

शुक्र है कि, सैद्धान्तिक सहमति अविष्कृत हो जाते हैं, और यह ज़्यादा नहीं टिकता, छोड़िये यह सब, आगे बढ़ते रहिये !

ब्यौरा ब्लॉग साइट मैप