जो इन्सानों पर गुज़रती है ज़िन्दगी के इन्तिख़ाबों में / पढ़ पाने की कोशिश जो नहीं लिक्खा चँद किताबों में / दर्ज़ हुआ करें अल्फ़ाज़ इन पन्नों पर खौफ़नाक सही / इन शातिर फ़रेब के रवायतों का  बोलबाला सही / आओ, चले चलो जहाँ तक रोशनी मालूम होती है ! चलो, चले चलो जहाँ तक..

पोस्ट सदस्यता हेतु अपना ई-पता भेजें


NO COPYRIGHT यह पृष्ठ एवं इस ब्लाग पर प्रकाशित सम्पूर्ण सामग्री कापीराइट / सर्वाधिकार से सर्वथा मुक्त है ! NO COPYRIGHT टेम्पलेट एवं अन्य सुरक्षा कारणों से c+v नकल-चिप्पी सुविधा को अक्षम रखा गया है ! सर्वाधिकार मुक्त पृष्ठ सुधीपाठक पूर्ण आलेख अथवा उसके अंश को जानकारी के प्रसार हेतु किसी भी प्रकार से उपयोग करने को स्वतंत्र हैं ! यह पृष्ठ एवं इस ब्लाग पर प्रकाशित सम्पूर्ण सामग्री कापीराइट / सर्वाधिकार से सर्वथा मुक्त है ! NO COPYRIGHT टेम्पलेट एवं अन्य सुरक्षा कारणों से c+v नकल-चिप्पी सुविधा को अक्षम रखा गया है ! सर्वाधिकार मुक्त पृष्ठ सुधीपाठक पूर्ण आलेख अथवा उसके अंश को जानकारी के प्रसार हेतु किसी भी प्रकार से उपयोग करने को स्वतंत्र हैं ! यह पृष्ठ एवं इस ब्लाग पर प्रकाशित सम्पूर्ण सामग्री कापीराइट / सर्वाधिकार से सर्वथा मुक्त है ! NO COPYRIGHT टेम्पलेट एवं अन्य सुरक्षा कारणों से c+v नकल-चिप्पी सुविधा को अक्षम रखा गया है ! सर्वाधिकार मुक्त पृष्ठसुधीपाठक पूर्ण आलेख अथवा उसके अंश को जानकारी के प्रसार हेतु किसी भी प्रकार से उपयोग करने को स्वतंत्र हैं ! यह पृष्ठ एवं इस ब्लाग पर प्रकाशित सम्पूर्ण सामग्री कापीराइट / सर्वाधिकार से सर्वथा मुक्त है !NO COPYRIGHT टेम्पलेट एवं अन्य सुरक्षा कारणों से c+v नकल-चिप्पी सुविधा को अक्षम रखा गया है ! सर्वाधिकार मुक्त पृष्ठ सुधीपाठक पूर्ण आलेख अथवा उसके अंश को जानकारी के प्रसार हेतु किसी भी प्रकार से उपयोग करने को स्वतंत्र हैं ! यह पृष्ठ एवं इस ब्लाग पर प्रकाशित सम्पूर्ण सामग्री कापीराइट / सर्वाधिकार से सर्वथा मुक्त है ! NO COPYRIGHT टेम्पलेट एवं अन्य सुरक्षा कारणों से c+v नकल-चिप्पी सुविधा को अक्षम रखा गया है ! सर्वाधिकार मुक्त पृष्ठ सुधीपाठक पूर्ण आलेख अथवा उसके अंश को जानकारी के प्रसार हेतु किसी भी प्रकार से उपयोग करने को स्वतंत्र हैं ! यह पृष्ठ एवं इस ब्लाग पर प्रकाशित सम्पूर्ण सामग्री कापीराइट / सर्वाधिकार से सर्वथा मुक्त है ! NO COPYRIGHT टेम्पलेट एवं अन्य सुरक्षा कारणों से c+v नकल-चिप्पी सुविधा को अक्षम रखा गया है ! सर्वाधिकार मुक्त पृष्ठ सुधीपाठक पूर्ण आलेख अथवा उसके अंश को जानकारी के प्रसार हेतु किसी भी प्रकार से उपयोग करने को स्वतंत्र हैं !सर्वाधिकार मुक्त वेबपृष्ठ

NO COPYRIGHT यह पृष्ठ एवं इस ब्लाग पर प्रकाशित सम्पूर्ण सामग्री कापीराइट / सर्वाधिकार से सर्वथा मुक्त है ! NO COPYRIGHT टेम्पलेट एवं अन्य सुरक्षा कारणों से c+v नकल-चिप्पी सुविधा को अक्षम रखा गया है ! सर्वाधिकार मुक्त पृष्ठ सुधीपाठक पूर्ण आलेख अथवा उसके अंश को जानकारी के प्रसार हेतु किसी भी प्रकार से उपयोग करने को स्वतंत्र हैं ! यह पृष्ठ एवं इस ब्लाग पर प्रकाशित सम्पूर्ण सामग्री कापीराइट / सर्वाधिकार से सर्वथा मुक्त है ! NO COPYRIGHT टेम्पलेट एवं अन्य सुरक्षा कारणों से c+v नकल-चिप्पी सुविधा को अक्षम रखा गया है ! सर्वाधिकार मुक्त पृष्ठ सुधीपाठक पूर्ण आलेख अथवा उसके अंश को जानकारी के प्रसार हेतु किसी भी प्रकार से उपयोग करने को स्वतंत्र हैं ! यह पृष्ठ एवं इस ब्लाग पर प्रकाशित सम्पूर्ण सामग्री कापीराइट / सर्वाधिकार से सर्वथा मुक्त है ! NO COPYRIGHT टेम्पलेट एवं अन्य सुरक्षा कारणों से c+v नकल-चिप्पी सुविधा को अक्षम रखा गया है ! सर्वाधिकार मुक्त पृष्ठसुधीपाठक पूर्ण आलेख अथवा उसके अंश को जानकारी के प्रसार हेतु किसी भी प्रकार से उपयोग करने को स्वतंत्र हैं ! यह पृष्ठ एवं इस ब्लाग पर प्रकाशित सम्पूर्ण सामग्री कापीराइट / सर्वाधिकार से सर्वथा मुक्त है !NO COPYRIGHT टेम्पलेट एवं अन्य सुरक्षा कारणों से c+v नकल-चिप्पी सुविधा को अक्षम रखा गया है ! सर्वाधिकार मुक्त पृष्ठ सुधीपाठक पूर्ण आलेख अथवा उसके अंश को जानकारी के प्रसार हेतु किसी भी प्रकार से उपयोग करने को स्वतंत्र हैं ! यह पृष्ठ एवं इस ब्लाग पर प्रकाशित सम्पूर्ण सामग्री कापीराइट / सर्वाधिकार से सर्वथा मुक्त है ! NO COPYRIGHT टेम्पलेट एवं अन्य सुरक्षा कारणों से c+v नकल-चिप्पी सुविधा को अक्षम रखा गया है ! सर्वाधिकार मुक्त पृष्ठ सुधीपाठक पूर्ण आलेख अथवा उसके अंश को जानकारी के प्रसार हेतु किसी भी प्रकार से उपयोग करने को स्वतंत्र हैं ! यह पृष्ठ एवं इस ब्लाग पर प्रकाशित सम्पूर्ण सामग्री कापीराइट / सर्वाधिकार से सर्वथा मुक्त है ! NO COPYRIGHT टेम्पलेट एवं अन्य सुरक्षा कारणों से c+v नकल-चिप्पी सुविधा को अक्षम रखा गया है ! सर्वाधिकार मुक्त पृष्ठ सुधीपाठक पूर्ण आलेख अथवा उसके अंश को जानकारी के प्रसार हेतु किसी भी प्रकार से उपयोग करने को स्वतंत्र हैं !सर्वाधिकार मुक्त वेबपृष्ठ

10 October 2008

साहब तनि ई फरमवा भरवा दिजीए

Technorati icon

सुबह सबेरे दरवाज़े पर खड़खड़ … खड़खड़, यह कौन है भाई ? पीछे से अम्मा चिल्लायीं, ‘अरे रुको, पक्का गँवार है का, घंटी नहीं देखाता है ?’ “घंटिया तो देख रहें हैं, माई.. बीजलियो होगा के नहीं, ई नहीं बूझे थे । बाबू साहेब से तनिका काम था, भोरे में भेंटाइये जायेंगे, तब्बे न आयें हैं । बोले थे कि कोनो काम होगा त मदत-ऊदत कर देंगे ।”  यह उसका प्रत्युत्तर था ! अब मैं चैतन्य हुआ, कोई पैसा उधार माँगने तो नहीं आया है ? इस समय राँची में हूँ, और यह आम बात है, सो यही होगा ! मैं किचकिचा कर निकला, देखा हनुमानुद्दीन खड़े हैं, चेहरे से याचना टपक रही है । ‘का है रे ?’ मेरा प्रश्न.. कुच्छौ न सरकार तनि ई फरमवा भरवा देंतीं न, बिहार राज्य  के डेलाइभर के पोस्ट निकलल बा, अब लाइसेन्सैया नईखे त अपलाई करे के बा ।

लाओ देखें, सरसरी तौर पर देख कर ही माथा चकराने को हुआ, अंग्रेज़ी में- था । इसको तुम कइसे भरेगा,रे ? हिन्दी का लेके आओ । ऊहे त संकट है बाबू, हिन्दिया त खतम हो गया सो.. बाबू इहे दिया है । बड़ा मारामारी है, बाबू साहेब । बड़ा मोश्कील में आये हैं । बोला कि कोनो से भरवा लो, लेकिन दसख़त आँगूठा अपना ही रखना । अब फँसे, बच्चा अमर कुमार !

Monkey20

Driving License Form for bihari drivers
Here is for those who would want to apply for driving licence in Bihar-
No offence intended - its the new user friendly form
BIHAR DRIVING LICENSE APPLIKASON PHAROM
NOTE : If you dont know the answers,
please copy from another applikason phorom and submit.
For further instructions, see bottom applikason.
Please do not shoot the person at the applikason kounter.
He will give you the lisence immediately.


Last name: (Yadav/Sinha/Pandey/Mishra/do not know)
First name: (_) ramprasad (_) Lakhan (_) Sivaprasad (_) Jamnaprasad (_) Dont know (Check appropriate box)
Age: (_) Less than zero (_) Zero (_) Greater than zero (_) Don't know
Sex: ____ M _____ F _____ not sure _____ not applicable
Chappal Size: ____ Left ____ Right
Occupation: (_) Farmer (_) Mechanic (_) Pehelwaan (_) House wife (_) Un-employed Spouse's Name: __________________________ Relationship with spouse : (_) Sister (_) Brother (_) Aunt (_) Uncle (_) Cousin (_) Mother (_) Father (_) Son (_) Daughter (_) Pet Number of children living in household: ___
Number that are yours: ___
Mother's Name: _______________________
Father's Name: _______________________ (If not sure, leave blank)
Education: 1 2 3 4 (Circle highest grade completed)                                                                                              If FAIL then give Duplicate Pass Cartifikat
Do you (_)own or (_)rent your home? (Check appropriate box) ___
Total number of vehicles you own ___
Number of vehicles that still crank ___
Number of vehicles in front yard ___
Number of vehicles in back yard ___ Number of vehicles on cement blocks
Firearms you own and where you keep them: ____ truck ____ bedroom ____ bathroom ____ kitchen ____ shed
Do you have a gun rack? (_)Yes (_) No; If no,please explain:
Newspapers/magazines you subscribe to: (_) Champak (_) Indrajal (_) Star and style (_) Blank sheets ___
Number of times you've SHOT any one ___
Number of times you've SHOT another person exactly like you ___ 
Do you bathe? (_) Yes (_) No (_) Not applicable
If yes, how often do you bathe? (_) Weekly (_) Monthly (_) Yearly
Color of teeth: (_) Yellow (_) Brownish-Yellow (_) Brown (_) Black (_) Others -
Give exact color
(call nearest Asian Paints dealer if you don't know the color of your teeth) :______________ (_) Not applicable
How far is your home from a paved road? (_)1 mile (_)2 miles (_)don't know
Your thumb impresson (


If you are copying from another applikason pharom,please do not copy thumb impression also.             Please  provide your own thumb impression.
PLEASE DO NOT USE FINGERS ON YOUR EVERY HANDS. Use thumb on your left hand only.
If you dont have left hand, use your thumb on right hand.
If you do not have right hand, use thumb on left hand.
NOTE : IF YOU DONT HAVE BOTH HANDS, YOU CANNOT DRIVE.
For instructions to fill this applikason pharom, see beginning of applikason phorom


बंधुओं, मैं सही दिमागी हालत में रायबरेली लौटने के मूड में हूँ, सो मैंने उसको टरकाया..”अच्छा एक काम करो, मैं इसको हिन्दी में कर देता हूँ, तुम देख देख कर अपने आप इसको भर लेना ।”  तब त भरिये लेंगे, हाज़ूर । हम बिहान आयेंगे ? हाँ वह तो खुश होगया पर लगता है कि मैं और गहरे फँस गया । इसका हिन्दीकरण तो लगता है, मेरे पुरखे भी न कर पायेंगे।  अपने ब्लागसंसार की याद आयी, हमारे सारथी शास्त्री जी अवश्य ही  इस  भाषादरित्र ( गौर करें, एक नया शब्द  ) की सहायता करेंगे । यदि वह मुकरते हों, तो कृपया यह प्रारूप रतलाम वाया भोपाल भेज सकते हैं । एक गरीब की रोज़ी का सवाल है ! वह बेचारा तो अपना रिक्शा बेच कर 6000. रुपये भी इस मद में एडवांस कर चुका है,कृपया उसकी सहायता करें ।

 

 

11 टिप्पणी:

विवेक सिंह का कहना है

आपने एकदम टू द पोइण्ट लिखा है . मान गए गुरु .

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi का कहना है

हम ने बहुत फारम भरवाए हैं और अनुवाद भी किए है। लेकिन इस का अनुवाद हमसे तो असंभव है।
पर इस का हिन्दी करने का जरूरत कहाँ है और भरने की भी। जिस ने भरा हो उस की कापी कर के दस्तख़त/अंगूठा ही तो करना है।

seema gupta का कहना है

'aisa form to dekha hee pehlee baar, ab iska translation ha ha ha apne bus kee baat nahee..'

regards

neeshoo का कहना है

बहुत अच्छा लिखा हे । सटीक । कितनी तारीफ करूँ कम होगी । धन्यवाद

rakhshanda का कहना है

इस फार्म का हिन्दीकरण?
अरे बाप रे...ये तो बेहद मुश्किल काम है...कोशिश करती हूँ....नही नही, इतनी काबिल तो मैं नही हूँ....बहुत खूब अमरजी....इस तरह की तहरीर तो बस आप से शुरू होकर आप पर ही ख़तम हो जाती है...सच कहूँ तो तबियत खुशगवार हो जाती है, और सच पूछिए तो त्योहारों के इस मौसम में थोड़ा मुस्कुराना ज़रूरी भी तो है...शुक्रिया जनाब

अनूप शुक्ल का कहना है

अनुवाद मुश्किल किंवा जटिल है!

डॉ .अनुराग का कहना है

फॉर्म की ही फोटो छाप दिये ....अनुवाद करने के पैसे लगते है ओर मन मर्जी अनुवाद करवाने के थोड़े ज्यादा ......बोलिए !

Udan Tashtari का कहना है

महाराज!! भोपाल वाया रतलाम ही भेज दो..उनके नामे यूँ भी कई अनुवाद हैं.

गजब है भई!! आनन्द आ गया. ताऊ से पूछें क्या? हरियाणवीं में कर देंगे फिर उससे हिन्दी बना लेंगे. :)

BrijmohanShrivastava का कहना है

डाक्टर सहीं कहाँ उलझा दिया =मैं आपका लिखा पढने तक ही सीमित रहता तो ठीक था /फारमवा नहीं भरता तो ठीक था /चोथी लाइन पर या कालम पर ऍफ़ =एम् =नोट स्योर /अब मैं पडा चक्कर में =किस्से कन्फर्म कराऊँ आखिर परेशान होकर -नोट एप्लीकेवल
ही भर कर आगया हूँ चेक कर लेना

Arvind Mishra का कहना है

दिमाग ससुरा चक्कर खाई गवा है -ई बिहार क फरामवा कतौं युपिअऊ में न आई जाय -एक्क्कौ ली क तो नई आय अमर बाबू !

pallavi trivedi का कहना है

वाह वाह..क्या मस्त फॉर्म है!इस फॉर्म का नमूना तो पूरे देश में लागू कर देना चाहिए!एकदम मज़ा आ गया पढ़कर!

लगे हाथ टिप्पणी भी मिल जाती, तो...

आपकी टिप्पणी ?

जरा साथ तो दीजिये । हम सब के लिये ही तो लिखा गया..
मैं एक क़तरा ही सही, मेरा वज़ूद तो है ।
हुआ करे ग़र, समुंदर मेरी तलाश में है ॥

Comment in any Indian Language even in English..
इन पोस्ट को चाक करती धारदार नुक़्तों का भी ख़ैरम कदम !!

Please avoid Roman Hindi, it hurts !
मातृभाषा की वाज़िब पोशाक देवनागरी है

Note: only a member of this blog may post a comment.

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

यह अपना हिन्दी ब्लागजगत, जहाँ थोड़ा बहुत आपसी विवाद चलता ही है, बुद्धिजीवियों का वैचारिक मतभेद !

शुक्र है कि, सैद्धान्तिक सहमति अविष्कृत हो जाते हैं, और यह ज़्यादा नहीं टिकता, छोड़िये यह सब, आगे बढ़ते रहिये !

ब्यौरा ब्लॉग साइट मैप